Th08/लाल जोड़ी का अतिरिक्त मोड़

From Touhou Patch Center
Jump to: navigation, search
This page is a translated version of a page Th08/Scarlet Team's Extra and the translation is 100% complete.

Other languages:Bulgarian 100% • ‎German 100% • ‎English 100% • ‎British English 16% • ‎Google Translate English 100% • ‎Spanish 100% • ‎French 100% • ‎Hindi 100% • ‎Hungarian 100% • ‎Indonesian 100% • ‎Italian 100% • ‎Japanese 100% • ‎Korean 100% • ‎Brazilian Portuguese 100% • ‎Russian 100% • ‎Russki (Latinica) 99% • ‎Swedish 100% • ‎Thai 100% • ‎Vietnamese 100% • ‎Simplified Chinese 99%

मई २५, २०१६ को ख़त्म हुआ।

अतिरिक्त

Gnome-colors-gtk-edit.svg msg8c.dat.jdiff



Keine Kamishirasawa enters

Keine

#2@60मैं तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी।

Keine

#2@140तुम्हारे हिम्मत को मानना पड़ेगा, जो पूर्णिमा की रात मुझे चुनौती देने आए हो।

Sakuya

#2@230अरे, तुम तो वाक़ई बदल गई हो।

Keine

#2@320मैं तुम्हें उस इंसान को हाथ लगाने भी नहीं दूँगी!

Keine Kamishirasawa defeated

Sakuya

#0@60देखा जाए तो ये हमले थोड़े ताक़तवर हैं, पर यह कोई अग्नि परीक्षा नहीं है।

???

#0@61अँधेरी रात है, और कोई इंसान आपस में नहीं लड़ रहे।

???

#0@62इस मुश्किल रात में न इंसान बाहर निकले हैं न योकाई।

Fujiwara no Mokou enters

???

#0@123शायद इसलिए क्योंकि आज पूर्णिमा की रात है?

Sakuya

#0@124बदक़िस्मती से मैं एक इंसान हूँ।

मोको

Mokou

#0@125सचे में? बदक़िस्मती से मैं भी एक इंसान हूँ।

Remilia

#0@126साकुया, हम बिलकुल सही वक़्त पर पहुँचे हैं। एक इंसान है, वो भी ऐसी जगह पर।

Sakuya

#0@127बिलकुल सही वक़्त पर? अभी आपके खाने का वक़्त नहीं हुआ है न?

Mokou

#0@128तो वो जवान औरत एक योकाई है? हालाँकि पंखों से ऐसे ही पता चल रहा था।

Remilia

#0@129मैं कोई ऐरा-गैरा नत्थू खैरा योकाई नहीं हूँ। मैं रईस और महान हूँ....

Sakuya

#0@130यहाँ पर रईस और महान होने की कोई ज़रूरत नहीं है।

Mokou

#0@131तो एक इंसान और योकाई की जोड़ी यहाँ क्या कर रही है?

Sakuya

#0@132हम यहाँ अग्नि परीक्षा लेने के लिए हैं....

Mokou

#0@133अग्नि परीक्षा?

Mokou

#0@134एक इंसान और योकाई के लिए?

Mokou

#0@135और एक असली पूर्णिमा के रात पर, जब पौधों के अलावा सब जागे हुए हैं?

Remilia

#0@136तो क्या हुआ? हम बस इस ठंडी सुहानी हवा का मज़ा वक़्त से पहले ले रहे हैं।

Remilia

#0@137तुम इंसान हो, इसलिए चुपचाप हमारी परीक्षा के किए एक राक्षस बनकर हमारा मन बहलाओ।

Sakuya

#0@138मालकिन। इंसान राक्षस नहीं बनते, सिर्फ़ उनकी तरह बर्ताव करते हैं।

Mokou

#0@139क्या यहाँ वैसे भी सैंकड़ो बुरी आत्माएँ नहीं हैं?

Mokou

#0@140फिर एक इंसान को वैसा बर्ताव करने की क्या ज़रूरत?

Remilia

#0@141तुमने कहा कि तुम इंसान हो।

Remilia

#0@142तो तुम्हें योकाइयों के डर नहीं लगता?

Remilia

#0@143तुम मेरे खौफ़ से काँप क्यों नहीं रही हो?

Mokou

#0@144तुम अग्नि परीक्षा के लिए आई हो, या किसी के शरीर का नाश्ता बनाने....?

Mokou

#0@145पर मुझे अभी किसी का भी डर नहीं।

Mokou

#0@146चाहे कितनी बार भी मैं बिजली से भी तेज़ तीरों का निशाना बन जाऊँ,

Mokou

#0@147चाहे कितनी बार भी मैं एक गाँव का सर्वनाश करने वाली आग में झुलस जाऊँ,

Mokou

#0@148मैं मर नहीं सकती।

Mokou

#0@149मैं अपने शरीर की और परीक्षा भी नहीं ले सकती।

Sakuya

#0@150यह तो लाजवाब है, मालकिन।

Sakuya

#0@151आप जितना चाहें उसका खून पी सकती हैं। इसके बावजूद वह मरेगी नहीं।

Remilia

#0@152उसका फ़ायदा नहीं, साकुया।

Remilia

#0@153वो और इंसान नहीं है। मैं सिर्फ़ वैसे इंसानों का ख़ून पीती हूँ, जो मुझसे डरते हैं।

Sakuya

#0@154अफ़सोस। मुझे लगा था वह उस फल की तरह होगी जिसका रास कभी ख़त्म नहीं होता।

Mokou

#0@155क्या तुम वाक़ई इंसान हो?

Mokou

#0@156अगर तुम हो, तो परीक्षा के बारे में भूल जाओ और घर चले जाओ। तुम्हें यहाँ पर नहीं होना चाहिए।

Sakuya

#0@157वह ऐसे कह रही है जैसे यहाँ पर कुछ छिपा है।

Remilia

#0@158मुझे लगता है कि यहाँ पर कुछ है। इसी वक़्त, थोड़ा सा भविष्य में।

Remilia

#0@159साकुया, तुम्हारे चाकू तेज़ हैं, पर तुम्हारा दिमाग नहीं।

Remilia

#0@160कागुया इस लड़की को ख़त्म कर देना चाहती है और उसने अग्नि परीक्षा का बहाना बनाकर हमें भेज दिया।

Mokou

#0@161रुको। क्या तुमने कहा "कागुया"?

Mokou

#0@162तो ये बात है। मुझे लगा था कि एक इंसान और योकाई के अग्नि परीक्षा में कुछ तो अजीब है।

Mokou

#0@163वो हमेशा मुझे मारने की कोशिश करती है। इसलिए क़ातिल भेजती रहती है।

Mokou

#0@164भले ही वो जानती है कि मैं नहीं मरूँगी।

Mokou

#0@165कागुया ने ही होराई अमृत बनाया था न? उसे पता होना चाहिए कि ये सब बेकार है।

Remilia

#0@166देखा, साकुया? जैसा मुझे लगा था, कागुया हमारा इस्तेमाल कर रही थी।

Sakuya

#0@167हाँ। तो आप इसके बावजूद राज़ी हो गईं क्योंकि आपको यह दिलचस्प लगा?

Remilia

#0@168नहीं, बस वक़्त गुज़ारने के लिए।

Mokou

#0@169इस अग्नि परीक्षा की आग है फ़ुजी पर्वत का धुआँ। वो अनंत राख का मीनार, चाँद को छूता हुआ।

Mokou

#0@170एक पुनर्जन्म लेता अमर पक्षी, जो उस आग से निरंतर लपटों से बना है।

♪ चाँद के लिए हाथ बढ़ाओ, अमर धुँआ

Mokou

#0@171एक महाकाय फ़ीनिक्स जो हर जन्म से और शक्तिशाली होता है। मेरी गोलियाँ इस औरत की अनंत पीड़ा होंगी।

Fujiwara no Mokou defeated

Mokou

#1@60आह, हाह। अब और नहीं।

Remilia

#1@61अरे? इतनी जल्दी? तुम गरजती हो पर बरसती नहीं।

Sakuya

#1@62मैं और बर्दाश्त नहीं कर सकती~। एक अमर इंसान की खिल्ली मत उड़ाइए।

Remilia

#1@63अरे हाँ। तुम तो मर सकती हो, साकुया।

Sakuya

#1@64कितनी मनहूस बात कही। आपके मुँह से सुनकर वह मज़ाक नहीं लगता।

Mokou

#1@65मैं भले ही मरने नहीं वाली हूँ, पर मैं और लड़ नहीं सकती~।

Remilia

#1@66तो क्यों न तुम भी अमर बन जाओ, साकुया?

Remilia

#1@67फिर हम हमेशा साथ साथ रहेंगे।

Sakuya

#1@68मुझ में अमर होने की कोई ख्वाहिश नहीं है, शुक्रिया।

Sakuya

#1@69लेकिन फ़िक्र मत कीजिए। जब तक मैं ज़िंदा हूँ, हम साथ हैं।

Mokou

#1@70मैं अमर बनने का सुझाव नहीं दूँगी।

Mokou

#1@71देखने में ये चोटें दर्दनाक न लग रहे हों, पर मैं तड़प रही हूँ।

Mokou

#1@72हालाँकि इस दर्द से भी मैं नहीं मरूँगी।

Remilia

#1@73जैसा तुम चाहो। फिर भी मुझे खेद रहेगा। उससे याद आया... वो होराई अमृत,

Remilia

#1@74वो अमर इंसान के आँतों में जमा हो जाती है।

Remilia

#1@75वो अमृत हमारे सामने है, भले ही वो पिटी हुई और थकी हुई है।

Sakuya

#1@76लेकिन एक इंसान की आँतें कौन खाना चाहता है?

Sakuya

#1@77और आपको यह सब किसने बताया?

Sakuya

#1@78नहीं, मैं जानती हूँ वह कौन होगा।

Mokou

#1@79एक इंसान की आँतें खाने की बात कर रहे हो? कितना डरावना विषय है।

Mokou

#1@80ये मेरी अग्नि परीक्षा नहीं थी न?

Remilia

#1@81यही तो एक अग्नि परीक्षा होती है। सही कहा न, साकुया?

Sakuya

#1@82आप पचौली जी के साथ वक़्त बिताकर कुछ बहुत अजीब चीज़ें सीख गई हैं। मुझे फ़िक्र होने लगी है।