Th10/मारिसा का अतिरिक्त मोड़

From Touhou Patch Center
Jump to: navigation, search
This page is a translated version of a page Th10/Marisa's Extra and the translation is 100% complete.

Other languages:Bulgarian 98% • ‎German 100% • ‎Deutsch (meta) 100% • ‎Greek 98% • ‎English 100% • ‎4Kids English 96% • ‎English (alternate) 72% • ‎British English 19% • ‎Google Translate English 100% • ‎Troll translations 94% • ‎Spanish 100% • ‎Latin American Spanish 100% • ‎French 100% • ‎Hindi 100% • ‎Indonesian 100% • ‎Italian 100% • ‎Japanese 100% • ‎Korean 100% • ‎Polish 13% • ‎Brazilian Portuguese 100% • ‎Russian 100% • ‎Swedish 100% • ‎Thai 100% • ‎Ukrainian 100% • ‎Vietnamese 100% • ‎Simplified Chinese 100%

१ जुलाई, २०१६ को ख़त्म हुआ।

अतिरिक्त चरण

Gnome-colors-gtk-edit.svg st07_01.msg.jdiff


♪ आने वाला कल खास होगा, जो बीता कल नहीं था
Kanako Yasaka enters

Kanako

#0@28अरे, क्या तुम और आगे बढ़ना चाहती हो?

Kanako

#0@152तुम नहीं जा सकती। वहाँ मेरी सदा सोई हुई दोस्त रहती है।

Kanako Yasaka defeated

Marisa

#1@34अंदर आते समय कानाको बोल रही थी....

Marisa

#1@38हमको पता था! ई देवालय में एक और देवी है।

???

#1@42वाह, ज़रा देखो इसे। बड़ा अजीब है।

Suwako Moriya enters

???

#1@110कानाको ने बहुत समय से किसी इंसान को देवालय के पवित्र कक्ष में आने नहीं दिया है।

Marisa

#1@118वैसे, हम खुद ही अंदर आ गए.... तुम कौन हो?

<Boss title>

Suwako

#1@126मैं इस देवालय की असली देवी हूँ।

Marisa

#1@134असली देवी? सब कुछ उलझता जा रहा है।

Suwako

#1@142बाहर से ये कानाको का देवालय है, पर असलियत में, ये मेरा है।

Suwako

#1@150मेरा नाम सार्वजनिक तौर पर नहीं लिया जाता, पर देवालय का काम मैं ही करती हूँ।

Marisa

#1@158मतलब....

Marisa

#1@166दूसरे शब्दों में, तुम्हारे मेहनत के फल का मजा कानाको ले रही है?

Suwako

#1@174हाँह

Marisa

#1@182अगर तुम अपने देवालय को इतनी आसानी से उसे दे दिया, तो तुमको बदले में कुछ बहुत बढ़िया मिला है न?

Suwako

#1@190वैसा नहीं है। ये असल में मेरा ही देवालय था।

Suwako

#1@198पर ये बहुत पहले की बात है, कानाको ने मेरे खिलाफ़ एक भयंकर युद्ध छेड़ दी और देवालय पर कब्ज़ा कर लिया।

Marisa

#1@206उसने कब्ज़ा कर लिया।

Suwako

#1@214लेकिन तब से, मुझ में आस्था भी बढ़ गई है, इसलिए मैं थोड़ी एहसानमंद भी हूँ।

Marisa

#1@222देवताओं की दुनिया बहुत मुश्किल लगती है।

Marisa

#1@230ठीक है, अब जब हम देवालय का राज जान चुके हैं, यहाँ से चलते हैं....

♪ स्थानीय आस्था

Suwako

#1@238क्या कह रही हो?

Suwako

#1@246पवित्र कक्ष में आए श्रद्धालु को मैं ऐसे ही जाने नहीं दे सकती।

Marisa

#1@254ओ, हमारे लिए तोहफा है क्या?

Suwako

#1@262क्योंकि तुम देवालय तक आई हो, तुम्हें वही करना पड़ेगा जो तुमने सानाए और कानाको के साथ किया

Suwako

#1@270तुम्हें मेरे साथ दानमाकु उत्सव मनाना पड़ेगा।

Suwako Moriya defeated

Suwako

#2@38आहाहाहाहा। जिस देवी ने अपने हाथों से एक देश बनाया है, उसे हरा देना प्रशंसनीय है।

Marisa

#2@46मैं दानमाकु के मामले में तुमसे बड़ी हूँ, इसलिए मैं हार नहीं सकती!

Suwako

#2@54एक इंसान भी दानमाकु में एक देवी के स्तर पर है....

Suwako

#2@62गेनसोक्यो में कुछ तेज़ तर्रार लोग हैं।

Marisa

#2@70ऐसा है क्योंकि यहाँ सब लोग चालाक हैं। लगभग सभी।

Suwako

#2@78तो ठीक है! मैं अब से गेनसोक्यो में रहूँगी, ये तय है।

Marisa

#2@86तुम उसी कारण से गेनसोक्यो नहीं आई थी क्या? या तुम्हारा वापस जाने का इरादा था?

Suwako

#2@94अरे, कानाको अपने आप ही देवालय को यहाँ ले आई।

Marisa

#2@102ऐसा क्या?

Suwako

#2@110पर कानाको ने ये ज़रूर देखा होगा।

Suwako

#2@118कि गेनसोक्यो में हमारे लिए एक नई जीवन की शुरुआत है।

Marisa

#2@126अरे अरे, बाहरी दुनिया के सब देवता यहाँ आ गए, तो अच्छा नहीं होगा न?

Suwako

#2@134गेनसोक्यो उतना बड़ा नहीं है, इसलिए वैसा शायद नहीं होगा।

Marisa

#2@142खैर, जो भी हो। अगर तुम यहाँ रहने वाली हो, तो हमको तुम्हारे लिए एक दावत करनी होगी।

Marisa

#2@150हम नहीं करेंगे, तो योकाई नहीं मानेंगे। और शायद हम भी न मानें।

Suwako

#2@158आह, डरावना।

Suwako

#2@166ऐसी बात है तो हमें तुरंत एक बड़ी दावत की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। मैं चावल दलिया के ४४ ईख लाती हूँ।

Marisa

#2@174दावत में दलिया.... बाहरी दुनिया की खानपान की परंपरा पगला गई है।