Th13/मारिसा के अंत

From Touhou Patch Center
Jump to: navigation, search
This page is a translated version of a page Th13/Marisa's Endings and the translation is 97% complete.

Other languages:German 100% • ‎English 100% • ‎British English 43% • ‎Google Translate English 100% • ‎Spanish 100% • ‎French 97% • ‎Hindi 97% • ‎Indonesian 100% • ‎Italian 97% • ‎Japanese 100% • ‎Korean 100% • ‎Polish 3% • ‎Brazilian Portuguese 100% • ‎Russian 100% • ‎Swedish 97% • ‎Thai 97% • ‎Ukrainian 100% • ‎Vietnamese 100% • ‎Chinese 100% • ‎Simplified Chinese 100%

१२ फ़रवरी, २०१८ को ख़त्म हुआ।

अच्छा अंत ३

Gnome-colors-gtk-edit.svg e03.msg.jdiff


#0@0महासमाधि।

#0@1एक स्थान जहाँ दिव्य आत्माएँ (=इच्छाएँ) इकट्ठे होते थे ताकि मिको उनकी इच्छाएँ पूरी कर सके।

Marisa 

#0@2"तो, क्या इच्छा है तुम्हारी?

  

#0@3क्या? 'मुझे कुछ स्वादिष्ट चाहिए?' कुछ मशरूम खा लो।

  

#0@4'मेरी कमर में दर्द है?' मुझे एक अच्छा मसाज की जगह पता है।"

Marisa 

#0@5"बाप रे, तुम इन सब को इस तरह कैसे समझती हो?"

Miko 

#0@6"मैंने कहा न, इसका कोई लाभ नहीं अगर तुम एक साथ दस इच्छाएँ नहीं सुन सकती।"

Marisa 

#0@7"एक साथ दस.... क्या।"

Marisa 

#0@8"प्यासा.... नींद.... को.... सपनों का.... ताकत....

  

#0@9ऊफ़, एक दुसरे के ऊपर बोलना बंद करो!"

Miko 

#0@10"लोगों की इच्छाएँ पल पल में बदलती हैं।

  

#0@11अगर तुम एक-एक कर उनकी इच्छाएँ सुनोगी, तो नतीजे अलग होंगे।

  

#0@12इसलिए तुम्हें उन सब को एक साथ सुनना पड़ेगा, अन्यथा तुम्हें सच्चाई नहीं दिखेगी।"

Marisa 

#0@13"तुम नामुमकिन बातें कर रही हो, ओए।"

Miko 

#0@14"वैसे, मेरा मानना है कि ये दरअसल आसान है।"

Marisa 

#0@15"तुम साधारण भी नहीं हो न...."

#0@16मिको के पुनर्जीवन के बाद दिव्य आत्माएँ स्वाभाविक तौर पर इकट्ठे गो गए थे।

#0@17इंसानों के तुच्छ इच्छाएँ उनमें प्रतिबिंबित होती होती थीं।

#0@18वही उन दिव्य आत्माओं का असली रूप था।

#0@19मक़बरे में इकट्ठी होती आत्माएँ मारिसा से संभले जाने के लिए बहुत ज़्यादा थे।

#0@20इसलिए उसकी मक़बरे में दिलचस्पी ख़त्म हो गई, और वह अपनी आम ज़िंदगी में लौट गई।

#0@21तो फिर दिव्य आत्माओं का क्या हुआ?

#0@22मिको के इंसानी गाँव में हाज़िर होते ही वे ग़ायब हो गए।

#0@23एक साथ दस लोगों से बात करने और समझने की शक्ति के वजह से वह इंसानी गाँव में चर्चा की आम विषय बन गई।

#0@24मारिसा को पता नहीं था कि दिव्य आत्माएँ कहाँ गईं, लेकिन उसे परवाह नहीं थी।

#0@25शायद, किसी तरह, उन नन्हे आत्माओं ने मिको को आकर्षित किया था, जो सच्ची दिव्य आत्मा थी।

#0@26

#0@26अंत ३ - बदलते इच्छाओं और आस्थाओं से जन्मा एक पल

#0@27ऑल क्लियर करने पर बधाई हो! जैसा मैंने सोचा था!

समांतर अंत ४



Gnome-colors-gtk-edit.svg e04.msg.jdiff


#0@0मारिसा का घर।

#0@1एक मनहूस, तंग और चीज़ों से ऊँचे ढेरों से भरा घर।

#0@2मारिसा कहीं दिखाई नहीं दे रही थी।

#0@3लेकिन बाहर अजीब आवाजें सुनी जा सकती थी।

Marisa 

#0@4"ऊफ़! हाह!"

Marisa 

#0@5"हुँह, सुबह के कसरत का कोई मुकाबला नहीं।"

#0@6मुझे ये समझाओ!

#0@7मारिसा सुबह से ये अजीब नाच क्यों कर रही है?

#0@8सच्चाई यह है कि मारिसा ने सेगा से ताओ धर्म की राज़ सुनी।

#0@9क्या था वह राज़?

#0@10अमरता का राज़।

#0@11ताओ धर्मियों का अंतिम लक्ष्य होता है अमरता।

#0@12उसने यह कासेन इबारा से भी सुना था, लेकिन मिको और मोनोनोबे

को अपनी आँखों से देख, जो अमर इंसान के उदहारण थे,

मारिसा ने ताओ धर्मी बनने का फ़ैसला लिया!

Marisa 

#0@13"हईशा-!

  

#0@14पर, क्या ई ताओ धर्मी प्रशिक्षण जैसा दिखता भी है?"

Marisa 

#0@15"खैर, हमने काफी पसीना बहाया।

  

#0@16अमरता ज्यादा दूर नहीं हो सकती!"

#0@17हाँ, ऐसे प्रशिक्षण से अमरता प्राप्त करना सचमुच नामुमकिन है।

#0@18लेकिन किसे पता? शायद सुबह उठकर कसरत करने से मारिसा का जीवनकाल बढ़ गया हो।

#0@19अंत ४ - दुर्भाग्यवश वो अपने प्रशिक्षण से जल्द ही थक जाएगी।

#0@20ये एक समांतर अंत है! बधाई हो!

बुरा अंत १०



Gnome-colors-gtk-edit.svg e10.msg.jdiff


#0@0वह मक़बरा जहाँ मिको निद्रा में थी।

#0@1जीत हासिल हुई थी, पर भारी नुक़सान के साथ।

Marisa 

#0@2"ऊ लड़की पगली है।

  

#0@3उसकी आभा किसी और से बहुत अलग है....

  

#0@4भागना पड़ेगा।"

#0@5मिको के समूह से भयभीत पर वह मानने को तैयार नहीं, मारिसा घर भाग गई।

#0@6अपने आप को समझकर कि यह बस पहली कोशिश थी, वो फिर लड़ने के लिए तैयार हुई।

#0@7

#0@7अंत १० - दुश्मनों का हमला याद रखो और पूरी कोशिश करो!

#0@8एक क्रेडिट क्लियर करने की कोशिश कीजिए!